http://puneetbisaria.wordpress.com/

सोच पुनीत की

158 Posts

136 comments

डॉ पुनीत बिसारिया


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

इस मटरू की बिजली से मन नहीं डोला …………………

Posted On: 13 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

ये क्या कह रहे हैं माननीय मंत्री महोदय !

Posted On: 3 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

फीका रहा दबंग का दूसरा अवतार

Posted On: 2 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

इतना बुरा भी नहीं था 2012

Posted On: 1 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

हे दामिनी…………….तुम्हारा जाना

Posted On: 29 Dec, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

सीता की व्यथा और आज की स्त्री

Posted On: 11 Dec, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

नए नायक ढूढो हे बोलीवुड

Posted On: 9 Dec, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

मस्ती मालगाड़ी में

1 Comment

Page 10 of 16« First...«89101112»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

महादेवी वर्मा ने अपने प्रयत्नों से इलाहाबाद में प्रयाग महिला विद्यापीठ की स्थापना की। इसकी वे प्रधानाचार्य एवं कुलपति भी रहीं। महादेवी वर्मा पाठशाला में हिन्दी-अध्यापक से प्रभावित होकर ब्रजभाषा में समस्या पूर्ति भी करने लगीं। फिर तत्कालीन खड़ी बोली की कविता से प्रभावित होकर खड़ी बोली में रोला और हरिगीतिका छन्दों में काव्य लिखना प्रारम्भ किया। उसी समय माँ से सुनी एक करुण कथा को लेकर सौ छन्दों में एक खण्डकाव्य भी लिख डाला। 1932 में उन्होंने महिलाओं की प्रमुख पत्रिका ‘चाँद’ का कार्यभार सँभाला। प्रयाग में अध्यापन कार्य से जुड़ने के बाद हिन्दी के प्रति गहरा अनुराग रखने के कारण महादेवी वर्मा दिनों-दिन साहित्यिक क्रियाकलापों से जुड़ती चली गईं। उन्होंने न केवल ‘चाँद’ का सम्पादन किया वरन् हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए प्रयाग में ‘साहित्यकार संसद’ की स्थापना की। उन्होंने ‘साहित्यकार’ मासिक का संपादन किया और ‘रंगवाणी’ नाट्य संस्था की भी स्थापना की।महादेवी वर्मा का चरित्र चित्रण इससे पहले शायद ही इतना ज्यादा कभी पढने को मिला हो ! बहुत बहुत धन्यवाद , एक बेहतर और जानकारी से भरा लेखन देने के लिए

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

वैदिक काल में स्त्रियों का उपयोग ऋण लेते समय बन्धक के रूप में भी किया जाता था। एक स्थल पर नारद और विष्णु सुझाव देते हैं कि स्त्रियों को गांवों की भांति उधार में दिया जा सकता है। ब्याज पर उधार में दिए जाने वाली वस्तुओं में स्वर्ण, अन्न और गायों के साथ स्त्रियों का भी उल्लेख आता है। यदि स्त्री को उधार के लिए लिया जाता था तो स्वामी को वापस लौटाते समय उधार काल में उससे पैदा हुई एक सन्तान भी वापस देनी होती थी। यदि उसने एकाधिक सन्तान पैदा की हो तो उधार देने वाला व्यक्ति अन्य सन्तानों को अपने पास रख सकता था।8 सम्भवतः इसी कारण पी0वी0 काणे जी लिखते हैं, ‘‘ऋग्वेद (1.109.12), मैत्रायाणी संहिता (1.10.1), निरूक्त (6.9,1.3) तैत्तिरीय ब्राह्मण (1.7,10) आदि के अवलोकन से यह विदित होता है कि प्राचीन काल में विवाह के लिए लड़कियों का क्रय-विक्रय होता था।‘‘ उनका निष्कर्ष है कि वैदिक काल में स्त्रियां बहुत नीची दृष्टि से देखी जाती थीं। उन्हें सम्पत्ति में कोई भाग नहीं मिलता था तथा वे आश्रित थीं। सुन्दर ऐतहासिक और ज्ञानवर्धक लेखन

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: achyutamkeshvam achyutamkeshvam

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

डॉ. पुनीत विसारिया जी, सच तो यह है कि इतिहास कभी भी इतिहास के रूप लिखा ही नहीं गया, बल्कि जो लिखना था वह लिखा गया | यही बात इतिहास पढ़ाने पर भी लागू होती है, इतिहास में से भी वही पढ़ाया जाता है, जो पढ़ाया जाना है | सामान्यतया यही विदित इतिहास रहा है कि वैदिक काल में स्त्रियाँ स्वतंत्र थीं और उन्हें सम्मान प्राप्त था | आप के द्वारा जुटाए उद्धरणों से स्पष्ट है कि मध्य काल से नहीं,बल्कि प्राचीन काल से ही स्त्रियाँ अपमान, अशिक्षा, अपवित्रता आदि का शिकार थीं | पर दोनों तरह के उदाहरण अपवाद के ही उदाहरण हैं | मात्र कुछ उदाहरणों से निषकर्ष गढ़ने की परम्परा पर विराम लगाना चाहिए | शोधपरक, उद्धरणों से परिपुष्ट, नवीन जानकारी से युक्त, ज्ञानवर्धक आलेख के लिए साधुवाद एवं सद्भावनाएँ !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: seemakanwal seemakanwal

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: utkarshsingh utkarshsingh

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया

के द्वारा: डॉ पुनीत बिसारिया डॉ पुनीत बिसारिया




latest from jagran